Go to the profile of  Punctured Satire
Punctured Satire
1 min read

प्रधानमंत्री मोदी केरल के त्रिसूर पहुंचकर गुरुवायुर मंदिर में किये दर्शन

प्रधानमंत्री मोदी केरल के त्रिसूर पहुंचकर गुरुवायुर मंदिर में किये दर्शन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शपथ ग्रहण करने के बाद पहली बार यात्रा पर हैं। वे आज का पूरा दिन केरल में रहेंगे। वे अभी केरल के त्रिसूर में पहुँच गए हैं। उन्होंने वहां स्थित प्रसिद्ध गुरुवायुर मंदिर के दर्शन किये। वे इस मंदिर में विशेष पूजा अर्जना भी करने वाले हैं। इसके बाद बीजेपी कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करने की भी उनकी योजना है।

न्यूज़ एजेंसी ANI ने अपने ट्वीट में प्रधानमंत्री के त्रिसूर आने की सूचना दी।

त्रिसूर का गुरुवायुर मंदिर भगवान कृष्ण का काफी पुराना मंदिर है। इसके गर्भगृह में भगवान गुरुवायुरप्पन (श्रीकृष्ण के बालरूप) की मूर्ति है। इस मंदिर तक पहुँचने के लिए प्रधानमंत्री मोदी नौसेना के हेलिकॉफ्टर का प्रयोग करेंगे। श्री मोदी शुक्रवार की रात को ही कोच्चि पहुँच चुके हैं। उन्हें यहाँ के एर्नाकुलम गेस्ट हाउस में ठहराया गया है।

प्रधानमंत्री गुरुवायुर मंदिर में भगवान कृष्ण के दर्शन और पूजन के बाद एक जनसभा को भी संबोधित करेंगे। इसके बाद दोपहर 2 बजे वे कोच्चि अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से दिल्ली के लिए प्रस्थान करेंगे। उसके बाद आज ही प्रधानमंत्री मालदीव और श्रीलंका के लिए भी रवाना होंगे।

केरल में बीजेपी की प्रदेश इकाई ने भी ट्विटर के माध्यम से बताया की आज आठ जून को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी गुरुवायुर मंदिर में पूजा करेंगे। उन्होंने श्रीकृष्ण एचएस मैदान में आम सभा होने की बात भी बताई। ग़ौरतलब है कि इस समय केरल में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी तीन दिवसीय दौरे पर हैं।

त्रिचूर का गुरुवायूर मंदिर लगभग 5000 साल पुराना है। इसके कुछ भाग का पुननिर्माण 1638 में किया गया था। हालाँकि इस मंदिर में गैर-हिन्दुओं का प्रवेश वर्जित है, लेकिन दूसरे धर्मों को मानने वाले भी गुरुवायूर भगवान के भक्त हैं। केबी मोहनदास जो कि गुरुवायूर देवासम बोर्ड के अध्यक्ष हैं ने जानकारी दी है कि प्रधानमंत्री मोदी यहाँ पर थुलाभारम रस्म अदा करना चाहते हैं। इसके लिए 112 किलो फूलों का प्रबंध किया जा रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गए हैं। प्रधानमंत्री की पूजा के दौरान मंदिर के द्वार को आम लोगों के लिए बंद रखा जाएगा। गौरतलब है कि इससे पहले इसी मंदिर में नरेंद्र मोदी ने 2008 में गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए थुलाभारम रस्म अदा की थी।