Go to the profile of  Rishabh Verma
Rishabh Verma
1 min read

NASA के हबल टेलीस्कोप को पाकिस्तानी मंत्री ने बताया पाकिस्तान का, हुए ट्रोल

NASA के हबल टेलीस्कोप को पाकिस्तानी मंत्री ने बताया पाकिस्तान का, हुए ट्रोल

पाकिस्तान की स्थिति किसी से छुपी नहीं है। दिन व दिन वो अपनी स्थिति को खराब करता जा रहा है। इसके बावजूद भी वो बड़ी बड़ी डींगे हांकने से बाज नहीं आता है। इसी कड़ी में पाकिस्तान के साइंस ऐंड टेक्नॉलजी मिनिस्टर डिंग हाँकने के चक्कर में सोशल मीडिया ज़बरदस्त तरीके से ट्रोल हो गए। उन्हें भारत के लोगों के साथ साथ स्वयं अपने देश पाकिस्तान में भी ट्रोल किया जा रहा है।

आइये आपको पूरा माजरा समझाते हैं। हुआ यूँ की पाकिस्तानी मीडिया चैनल जियो न्यूज के 'नया पाकिस्तान' नामक कार्यक्रम में पाकिस्तान के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री फवाद चौधरी पाकिस्तान की तारीफ में डींगे हांकते हांकते यह कह गए की हबल स्पेस टेलिस्कोप को पाकिस्तान की ऐरोनॉटिक्स ऐंड ऐरोस्पेस रिसर्च एजेंसी ‘सुपारको’ ने स्पेस में भेजा है। जबकि वास्तव में हबल टेलिस्कोप को अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी NASA ने भेजा है।

फवाद चौधरी के ऐसा बयान देने के बाद से उन्हें बुरी तरह से ट्रोल किया जाने लगा और मजाक उड़ाया जाने लगा। इस शो का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है।  इस वीडियो में स्पेस से निगरानी के लिए तकनीक के उपयोग पर जब ऐंकर प्रश्न करता है तब पाक मंत्री उसे समझाते हुए कहते हैं, 'देखने में प्रॉब्लम है। एक तरीका यह है कि आपने एक दूरबीन लगाई जो 50, 60, 70 या शायद 100 साल पुरानी टेक्नॉलजी है। एक देखने का तरीका दूरबीन हबल है, जो दुनिया की सबसे बड़ी दूरबीन है जो सुपारको (Suparco) ने भेजी हुई है, जो सैटलाइट में वहां लगी हुई है। फिर सैटलाइट्स हैं और फिर और टेक्नॉलजी है जो आप यूज करते हैं।'

ग़ौरतलब है की हबल टेलीस्कोप को अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा से 1990 में अंतरिक्ष में भेजा था। यह टेलीस्कोप आज भी कार्यरत है। इसे नासा ने यूरोपियन स्पेस एजेंसी की सहायता से तैयार किया था।