Go to the profile of  Rishabh Verma
Rishabh Verma
1 min read

जुजाना कैपुतोवा बनी स्लोवाकिया की पहली महिला राष्ट्रपति, 14 साल भ्रष्टाचार से लड़ी लड़ाई

जुजाना कैपुतोवा बनी स्लोवाकिया की पहली महिला 
राष्ट्रपति, 14 साल भ्रष्टाचार से लड़ी लड़ाई

स्लोवाकिया में भ्रष्टाचार-रोधी मुहिम चलाने वाली प्रसिद्ध उम्मीदवार जुजाना कैपुतोवा को चुनाव में जीत हासिल हुई है। बता दें की जीत हासिल करके उन्हें स्लोवाकिया की पहली महिला राष्ट्रपति बनने का गौरव प्राप्त हुआ है। रविवार को मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार हाई-प्रोफाइल राजनयिक मारोस सेफकोविक को कैपुतोवा ने दूसरे चरण की चुनावी गिनती में हार का मुँह दिखा दिया। जानकारी दे दें की स्लोवाकिया में यह चुनाव 2018 में एक खोजी पत्रकार जान कुसिएक की हत्या होने के बाद हुआ है।

बताया जा रहा है की कैपुतोवा को यह जीत अवैध कचरा भराव क्षेत्र के विरुद्ध किये गए विरोध के मामले की अगुवाई एक वकील के रूप में करने पर हासिल हुई है। यह मामला लगभग 14 सालों तक चला था।

कैपुतोवा उदारवादी प्रोग्रेसिव स्लोवाकिया पार्टी की एक सदस्य है। जानकारी दे दें की संसद में इस पार्टी की कोई भी सीट नहीं है।  यूरोपियन कमीशन के उपाध्यक्ष सेफकोविट के 42 फीसदी वोट में से 58 फीसदी वोट को पाकर कैपुतोवा को यह जीत मिली है। सरकार की मुखर आलोचक और भ्रष्टाचार विरोधी कार्यकर्ता के रूप में कापुतोवा कार्य रही है। जिसके चलते कापुतोवा ने इस मामले को अपना प्रमुख चुनावी मुद्दा बनाया और जीत हासिल की।

कैपुतोवा के पारिवारिक जीवन पर यदि नजर डाली जाए तो कैपुतोवा 46 वर्षीय महिला है जिनका तलाक हो चुका है साथ ही वह दो बच्चों की माँ भी है।

स्लोवाकिया में समलैंगिक विवाह का कोई कानून नहीं है साथ ही बच्चों को गोद लेने के विषय में भी अब तक कोई कानून नहीं बना है। ऐसे देश में एलजीबीटीक्यू अधिकारों को कैपुतोवा के उदारवादी विचार से आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी।