Go to the profile of  Punctured Satire
Punctured Satire
1 min read

पीएम मोदी के आचार संहिता उल्लंघन मामले में चुनाव आयोग ने दी क्लीन चीट

पीएम मोदी के आचार संहिता उल्लंघन मामले में चुनाव आयोग ने दी क्लीन चीट

लोकसभा चुनाव के दौरान प्रचार कार्य हेतु पीएम मोदी ने महाराष्ट्र के वर्धा में 1 अप्रैल को अपनी चुनावी रैली में अपने भाषण में कहा था कि "कांग्रेस को कैसे माफ किया जा सकता है। जब आप लोग हिन्दू आतंकवाद की बात सुनते हैं तो क्या आप लोग दुखी महसूस नहीं करते। एक समुदाय जो शांति, भाईचारा और सद्भाव के लिए जाना जाता है, उसे आतंकवाद से कैसे जोड़ा जा सकता है। हजारों साल के इतिहास में एक भी ऐसा वाक़या नहीं है जिसमें हिन्दू आतंकवाद का जिक्र हो, यहां तक कि ब्रिटिश भी यह नहीं कह सके।"

पीएम मोदी के इस बयान पर चुनाव आयोग ने आज अपनी सुनवाई के बाद रिपोर्ट पेश की जिसमे कहा गया कि प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन के दौरान कोई भी ऐसी बात नहीं की जिससे आचार संहिता का उल्लंघन हो और हमने पूरे मामले की जांच की है जिसमे ऐसी कुछ भी चीज नहीं पायी गई जिससे यह सिद्ध हो की पीएम मोदी ने आचार संहिता का उल्लंघन किया हो।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी अपने एक चुनावी भाषण में राहुल गांधी पर तंज कसते हुए कहा था कि “राहुल ने हिन्दू धर्म को पूरे विश्व में बदनाम किया है। यहां तक कि कोर्ट ने कहा है कि हिन्दू आतंकवाद जैसी कोई चीज नहीं है। राहुल को हिन्दू धर्म को आतंकवाद से जोड़ने पर माफी मांगनी चाहिए।”

बता दें कि बीते दिनों चुनाव आयोग ने धर्म के आधार पर वोट मांगने के आरोप में बसपा सुप्रीमो मायावती, सपा के वरिष्ठ नेता आजम खान और उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को चुनाव प्रचार करने से तीन दिनों तक के लिए रोक लगा दी थी।