Go to the profile of  Rishabh Verma
Rishabh Verma
1 min read

‘Article 15’ review: जातिवाद और ऊंच नीच के भेदभाव को दर्शाती एक उम्दा फिल्म

‘Article 15’ review: जातिवाद और ऊंच नीच के भेदभाव को दर्शाती एक उम्दा फिल्म

Movie Review: आर्टिकल 15

कलाकार: आयुष्मान ख़ुराना, कुमुद मिश्रा, मनोज पाहवा, जीशान अयूब, सयानी गुप्ता, ईशा तलवार आदि

निर्देशक: अनुभव सिन्हा

निर्माता: जी स्टूडियोज और बनारस मीडिया वर्क्स

रेटिंग: 3.5  

अभिनेता आयुष्मान ख़ुराना बॉलीवुड फिल्मों में अलग अलग रोल निभाकर अपनी अलग पहचान बना रहे है।जहाँ अंधाधुन मूवी में आयुष्मान ने अंधे का किरदार निभाकर लोगो का दिल जीता था वहीं अब वे अपनी नई फिल्म 'Article 15' में एक ईपीएस ऑफिसर की भूमिका निभा रहे हैं। विरोध के बावजूद यह मूवी आज सिनेमाघरों में रिलीज़ हो चुकी है। इस मूवी को अनुभव सिन्हा ने डायरेक्ट किया है। फिल्म कि कहानी एक गंभीर मुद्दे पर आधारित है।

फिल्म की कहानी के शुरुआत में आयुष्मान अपने पिता के कहने पर ईपीएस ऑफिसर बनते है। आयुष्मान की पहली पोस्टिंग होती है उत्तर प्रदेश के एक छोटे से जिले में जहां पर जातिगत भेदभाव होता है। आयुष्मान की पोस्टिंग के दिन ही एक दिल दहलाने वाली घटना घटती हुई। दरअसल रात में दो बच्चियों के साथ दुष्कर्म हो जाता है और एक बच्ची गायब हो जाती है क्योंकि वह पिछड़ी जाति की होती है। इस केस को सुलझाने के लिए आयुष्मान अपनी जी जान लगा देते और जाति आधारित भेदभाव के लिए लड़ते है।  इसी दौरान क्या-क्या होता है इसके लिए आपको फिल्म देखनी होगी।

फिल्म में दिखाया गया है की पिछड़े वर्ग के लोगों को किस प्रकार का संघर्ष करना पड़ता है। यह फिल्म पूरी तरह से संविधान में दर्ज 'Article 15' पर बनी है जिसमें धर्म, जाति, भाषा, रंग या लिंग के आधार पर भेदभाव की सख्त मनाही है। फिल्म की कहानी रोचक और दिलचस्प है। फिल्म का हर सीन आपको बांधे रखता है।

आयुष्मान ने एक बार फिर अपनी एक्टिंग से ये साबित कर दिया है कि वो हर किरदार में अपना कमाल दिखा देते हैं। इसके अलावा फिल्म की बाकी कास्ट ईशा तलवार, मनोज पाहवा, मोहम्मद जीशान ने भी अच्छा काम किया है। अनुभव सिन्हा ने कमाल का डायरेक्शन किया है। उन्होंने एक बार फिर खुद को साबित किया है। बता दें की सिन्हा की पिछली फिल्म ‘मुल्क’ को भी लोगों ने खूब पसंद किया था। Article 15 जैसे मुद्दे पर बनी फिल्म हम सभी को देखना चाहिए।