Go to the profile of  Prabhat Sharma
Prabhat Sharma
1 min read

यूपी में फिर शुरू हुआ पलायन पार्ट 2, मेरठ के मुस्लिम बहुल इलाके से हिन्दू कर रहे हैं पलायन

यूपी में फिर शुरू हुआ पलायन पार्ट 2, मेरठ के मुस्लिम बहुल इलाके से हिन्दू कर रहे हैं पलायन

कुछ दिन पहले उत्तरप्रदेश के मेरठ स्थित प्रहलाद नगर स्थित एक मंदिर में भजन कीर्तन कर रही महिलाओं पर फ़ायरिंग की गई थी। जिसके बाद से ही उस इलाके में दहशत का माहौल बना हुआ है। बता दें कि प्रहलाद नगर के आस पास मुस्लिम बहुल इलाका है और यहाँ के मुस्लिम लड़के इस इलाके में रहने वाली महिलाएं एवं लड़कियों को छेड़ते रहते है और आपत्तिजनक वस्तुएँ हिंदुओं के घर पर फेंकते है। इन सब समस्याओं से परेशान होकर मेरठ के प्रहलाद नगर के आस पास के इलाके के हिन्दू परिवार अपना घर छोड़ने पर मजबूर हो गए है।

अब मामला इतना बढ़ गया है कि इस इलाके के घरों के बाहर "यह मकान बिकाऊ है।" का बोर्ड लगा हुआ नजर आता है। इस इलाके में रहने वाले लोगों का मानना है कि आए दिन मुस्लिम समुदाय के लोग महिलाओं और छोटी छोटी बच्चियों के साथ छेड़खानी करते है। रात में इस इलाके में फायरिंग भी होती है। पुलिस से शिकायत करने पर भी कोई मदद नहीं मिल रही है। इन सभी कारणों से हिन्दू परिवारों को वहां से पलायन करना पड़ रहा है।

Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath has ordered a probe into the alleged exodus of 200 families from Prahlad Nagar, Meerut.

Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath has ordered a probe into the alleged exodus of 200 families from Prahlad Nagar, Meerut.

Posted by Zee News English on Friday, June 28, 2019

वहां रह रहे हिन्दू परिवार ने मुस्लिम समुदाय पर लूटपाट और मारपीट का आरोप भी लगाया है। जब जी न्यूज़ ने पुलिस प्रशासन से बात की तो उन्होंने बताया कि इलाके में पलायन जैसी कोई समस्या नहीं है। इस पूरी घटना को पुलिस प्रशासन ने आपसी रंजिश बताया है। वही उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री ने संबंधित अधिकारियों को जांच के आदेश दिए है और इसकी पूरी रिपोर्ट पेश करने को भी कहा है।

ग़ौरतलब है कि आज़ादी के समय जब देश का बँटवारा हुआ था तब पाकिस्तान से आये बहुसंख्यकों को प्रह्लाद नगर में बसाया था। इस पूरे क्षेत्र में पंजाबी लोग रहते है। इस इलाके के चारों तरफ इस्लामाबाद, पिल्लोखड़ी, श्यामनगर, गोलाकुआं समेत कई मुस्लिम समुदाय की सीमाएं लगाती है। इस वर्ग विशेष से प्रताड़ित होकर 125 परिवारों को अपना घर छोड़कर जाना पड़ रहा है।