Go to the profile of  Punctured Satire
Punctured Satire
1 min read

रूसी सिद्धांत बताता है कि कैलाश पर्वत एक एलियनों द्वारा निर्मित पिरामिड हो सकता है

रूसी सिद्धांत बताता है कि कैलाश पर्वत एक एलियनों द्वारा निर्मित पिरामिड हो सकता है

शिव जी का पवित्र निवास कैलाश पर्वत न केवल 4 प्रमुख धर्मों (हिंदू धर्म, बौद्ध धर्म, जैन धर्म और बॉन) में अपने धार्मिक मूल्य के लिए प्रसिद्ध है, बल्कि इसकी शानदार डिजाइन महान वैज्ञानिक महत्व को भी साबित करती है। यहाँ डराने वाली चोटी दुनिया की कॉस्मिक एक्सिस है, इसलिए इसका नाम 'ब्रह्मांड का केंद्र' है। यह चीन के स्वायत्त क्षेत्र तिब्बत के एक दूरदराज के हिस्से में स्थित है। अब तक ऐसा कोई भी मानव नहीं हुआ है जो की कैलाश पर्वत को नाप सका हो।

पिरामिड थ्योरी के बारे में पढ़ने से पहले, सबसे पहले हमें कैलाश पर्वत को जानना चाहिए कि यह क्या है?

चलिए आपको बताते है कैलाश पर्वत के बारे में। कैलाश पर्वत 6640 मीटर / 22000 फीट ऊंचा पर्वत है इसलिए इस पर चढ़ाई करना कठिन है। इसके शिखर तक पहुंचने के प्रयास में कई लोग असफल हो गए हैं या मर गए हैं। इस पर चढ़ाई कुछ हद तक संभव है लेकिन शिखर तक पहुँचना लगभग असंभव है। इस असंभव को हासिल करने के प्रयासों में कई लोगों की जाने तक चली गई।  पहाड़ पर चढ़ने के प्रयास में मरने वाले लोगों की कई किंवदंतियाँ प्रचलित हैं। चीनी अधिकारियों ने इस मामले की धार्मिक संवेदनशीलता को समझते हुए, आधिकारिक तौर पर इस पर्वत पर चढ़ाई करने के प्रयास पर प्रतिबंध लगा दिया है।

कैलाश पर्वत के सामने मानसरोवर एक मीठे पानी की झील है जिसका व्यास 80 KM है। इस तरह की ऊंचाई पर मीठे पानी की झीलें बहुत ही असामान्य हैं, और भी अधिक असामान्य है कि मानसरोवर झील से पर्वत के दूसरी तरफ रक्ष (राक्षस) झील है। मानसरोवर और रक्षा झील एक दम विपरीत हैं।  भले ही झीलें व्यावहारिक रूप से एक पतली दीवार से अलग होती हैं, लेकिन वे पूरी तरह से अलग लक्षण दिखाती हैं।

मानसरोवर और रक्षास्थल को 'चमक और अंधकार' माना जाता है। मानसरोवर में जीवन होता है जबकि राक्षस झील में नमकीन पानी और जलीय जीवन-पौधों या मछली की कोई उपस्थित नहीं है।

एक नेत्र रोग विशेषज्ञ अर्नस्ट मुलदाशेव ने कहा ‘पवित्र पर्वत वास्तव में एक पिरामिड है’

1999 में, रूसी नेत्र रोग विशेषज्ञ अर्नस्ट मुलदाशेव ने कैलाश पर्वत के रहस्यों को जानने की कोशिश में तिब्बत के एक अभियान पर जाने का फैसला किया। इस अभियान में उनकी टीम में भूविज्ञान, भौतिकी और इतिहास के विशेषज्ञ शामिल थे। मुलदाशेव की टीम इस निष्कर्ष पर पहुंची कि कैलाश पर्वत वास्तव में एक विशाल मानव निर्मित पिरामिड है जो प्राचीन काल में बनाया गया था। उन्होंने दावा किया कि यह कई छोटे पिरामिडों से घिरा हुआ था और सभी असाधारण गतिविधियों का केंद्र हो सकता है।

मुलदाशेव का मानना है कि पिरामिड प्राचीन है और यह उन्नत लोगों द्वारा बनाए गए थे जो सूक्ष्म ऊर्जा के नियमों के बारे में जानते थे। उन्होंने लिखा कि पहाड़ प्राचीन स्मारकीय संरचनाओं की एक प्रणाली का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है और यह सीधे गीजा और टियोतिहुआकन (Teotihuacan) के पिरामिड जैसे पृथ्वी के मुख्य पिरामिडों से जुड़ा हुआ है।

ऐसा माना जाता है कि कैलाश पर्वत में रहस्यमयी तरीके से उम्र बढ़ने वाली हवा है। सामान्य परिस्थितियों में दो सप्ताह में नाखून या बालों का विकास होता है जबकि माउंट कैलाश के आसपास यदि रुका गया तो केवल 12 घंटों में दोगुना हो जाता है।