Go to the profile of  Prabhat Sharma
Prabhat Sharma
1 min read

लोकसभा चुनाव 2019 से पहले पीएम मोदी का सबसे बड़ा इंटरव्यू, दिया 5 साल के कार्यों का हिसाब

लोकसभा चुनाव 2019 से पहले पीएम मोदी का सबसे बड़ा इंटरव्यू, दिया 5 साल के कार्यों का हिसाब

आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रिपब्लिक टीवी पर एक दमदार इंटरव्यू दिया जिसमे उन्होंने देश में पिछले 5 साल में हुए कार्यों को लेकर चर्चा की साथ ही उन्होंने देश की जनता पर पूर्ण विश्वास जताया है। आप को ज्ञात होगा कि आगामी 11 अप्रैल को भारत में प्रथम चरण का मतदान होना है। यह चुनाव 11 अप्रैल से प्रारम्भ होकर 19 मई तक चलेंगे उसके बाद 23 मई को लोकसभा चुनाव 2019 के परिणाम घोषित होंगे।

रिपब्लिक टीवी के चीफ एडिटर अर्नब गोस्वामी इस इंटरव्यू में पीएम मोदी के साथ थे। मोदी ने देश में स्थिरता पर चर्चा करते हुए कहा: “भारत की जनता ने 30 सालों वाली अस्थिर सरकार को भी देखा है और हमारी 5 साल की स्थिर सरकार को भी देखा है। जनता ने मन बना लिया है कि अब जो सरकार बनेगी वो पूर्ण बहुमत वाली सरकार बनेगी। देश की जनता को पूर्ण विश्वास है कि मोदी ने देश की सुरक्षा और गरीबी जैसे विषय पर क्या क्या किया है इसलिए मुझे पूर्ण विश्वास है इस चुनाव में हम ज्यादा सीटों के साथ पूर्ण बहुमत के साथ भाजपा सरकार बनाएगी और NDA के घटकों को भी ज्यादा से ज्यादा सीट मिलेगी।” मोदी जी ने यह भी कहा कि “देश में कुछ जगह जहाँ हमें प्रतिनिधित्व नहीं मिलता वहाँ से भी जनता हमें चुनकर भेजेगी”

पीएम मोदी ने इंटरव्यू में देश की सुरक्षा पर कहा “पहले लोग मोदी को नहीं जानते थे पर अब देश मोदी को जनता है और देश की सुरक्षा पर मेरा रूखे केसा है ये देश जनता है। पुलवामा हमले के बाद मैंने सार्वजनिक मंच से यह घोषणा की थी मैंने सेना को खुली छूट देदी है। इस पर देश की सेना एवं उससे जुडी संस्था ने एयर स्ट्राइक का प्लान बनाया। जब कोई ऐसा प्लान बनता जिसमे देश के जवानों की जान खतरे में होती है तो में इससे खुद को दूर नहीं रख पाता हूँ इसलिए में इस मिशन में पूरी तरह से शामिल था।”

इस इंटरव्यू में पीएम से जब राफेल लड़ाकू विमान सौदा, मैं भी चौकीदार कम्पैन से जुड़े हर सवालों का जवाब बड़ी बेबाकी से दिया था। पुलवामा हमले पर उन्होंने कहा “जब पुलवामा का हमला हुआ तब मेरा उत्तराखंड में टूरिज्म एवं एन्वॉयरमेंट को लेकर एक कार्यक्रम था जो पूर्व निर्धारित था। उस कार्यक्रम के समय उत्तराखंड में बारिश हो रही थी और वही पर मेरी एक रैली भी थी। मुझे उसी समय पुलवामा का समाचार मिला तो मैंने रैली को फ़ोन से सम्बोधित किया अगर में वहाँ इस घटना का जिक्र करता तो शायद इसका परिणाम कुछ और होता। आपको ज्ञात होगा 2013 में बिहार में मेरी एक रैली चल रही थी और उसी वक्त वहां बम धमाके हो रहे थे अगर में उस वक्त अपना आपा खो देता तो वहां बहुत बड़ी घटना हो जाती।”