Go to the profile of  Rishabh Verma
Rishabh Verma
1 min read

भारत सरकार ने पीएम मोदी की बिस्केक यात्रा के लिए पाकिस्तान से अपना एयरस्पेस इस्तेमाल करने कि इजाजत मांगी

भारत सरकार ने पीएम मोदी की बिस्केक यात्रा के लिए पाकिस्तान से अपना एयरस्पेस इस्तेमाल करने कि इजाजत मांगी

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी किर्गीस्तान की राजधानी बिस्केक में 13 से 14 जून को शंघाई सहयोग संगठन की बैठक में भाग लेने वाले हैं। इसके लिए जब वे भारत से रवाना होंगे तो उनका विमान पाकिस्तान होते हुए जायेगा। एक सरकारी अफसर ने मीडिया को जानकारी दी कि भारत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विमान को पाकिस्तान के एयरस्पेस से गुजरने के लिए अनुमति मांगी है।

26 फरवरी के बाद से पाकिस्तान ने अपना एयर स्पेस बंद कर दिया है। भारत के द्वारा बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों पर हमला किया गया, तब से अब तक लगभग 4 महीने बीच चुके हैं। उसने अपना हवाई क्षेत्र विदेशी उड़ानों के लिए पूरी तरह से बंद कर रखा है। पाकिस्तान के कुल 11 एयर रुट में से सिर्फ 2 ही फ़िलहाल खुले हुए हैं।

एक सरकारी अधिकारी के हवाले से खबर मिली है कि भारत के द्वारा पाकिस्तान से आग्रह किया गया है कि वह प्रधानमंत्री मोदी की बिस्केक यात्रा के लिए एक रुट खोले। इससे पहले पाकिस्तान सुषमा स्वराज के लिए भी अपना रूट खोल चुका है। वे भी 21 मई को एससीओ की विदेश मंत्रियों की बैठक के लिए बिस्केक गई थीं।

पाकिस्तान में अभी सिर्फ 2 एयर रुट से चालू हैं। 10 रुट अभी भी व्यावसायिक उड़ानों के लिए बंद हैं। गौरतलब है कि बालाकोट हमले के बाद भारत ने भी अपने एयरस्पेस कुछ समय के लिए बंद कर दिए थे। लेकिन पाकिस्तान की ओर से प्रतिबन्ध अभी भी जारी है। पाकिस्तान में एयर रुट के बंद होने से उनकी घरेलु उड़ान तो प्रभावित हो ही रही है, इससे भारत की एयर इंडिया और इंडिगो की उड़ानें भी प्रभावित हो रही हैं। इंडिगो की दिल्ली से इस्तांबुल की उड़ाने बंद हैं क्योंकि इसका रुट भी पाकिस्तान से होकर जाता है।

अभी एयर इंडिया की दिल्ली से अमेरिका की सीधी उड़ानें भी बंद हैं, क्योंकि इसके लिए भी पाकिस्तानी एयर स्पेस के उपयोग की आवश्यकता होती है। पुलवामा हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में आये तनाव का असर दूसरे क्षेत्रों पर भी देखने को मिल रहा है। पाकिस्तान के एयर स्पेस के उपयोग पर प्रतिबन्ध से भारत के अलावा दूसरे देश भी प्रभावित हो रहे हैं।