Go to the profile of  Rishabh Verma
Rishabh Verma
1 min read

हिंदुओं को बदनाम करने की साज़िश: ओवरटेक के विवाद को मुस्लिम युवक ने दिया सांप्रदायिक रंग

हिंदुओं को बदनाम करने की साज़िश: ओवरटेक के विवाद को मुस्लिम युवक ने दिया सांप्रदायिक रंग

बीते शनिवार को कानपुर में मदरसे से लौटते युवक को जय श्रीराम का नारा नहीं लगाने पर पीटने का मामला निकला फर्जी।इस फर्जी मामले के अनुसार कानपुर के बर्रा छह इलाके में कुछ अराजक तत्वों ने मदरसे से लौट रहे एक मुस्लिम युवक को जय श्रीराम का नारा नहीं लगाने पर पीटा। इसके बाद यह बताया गया कि हमलावर राहगीरों के एकठ्ठा होने पर वहां से भाग गए।

परन्तु इस मामले की जाँच के बाद एसएसपी ने बताया कि यह ओवरटेक के विवाद था जिसमे मारपीट भी हुई थी। उन्होंने बताया कि घटना स्थल के आसपास की दुकानों पर लगे सीसीटीवी फुटेज से सच्चाई सामने आयी है।

हालांकि इस मामले में मुस्लिम युवक ने जो झूठी कहानी बताई उसके अनुसार मुस्लिम युवक ताज मोहम्मद दोपहर दो बजे उस्मान स्थित मदरसे में पढ़कर बाइक से घर वापस लौट रहा था तभी बर्रा छह में एक दुकान के सामने 2-3 बाइकों पर कुछ युवक आये और उसे रोका साथ ही टोपी उतारकर अभद्रता भी करने लगे।

ताज मोहम्मद ने बताया है कि आरोपी युवकों ने जय श्रीराम का नारा लगाने के लिए भी कहा। जब ताज मोहम्मद ने जय श्रीराम का नारा लगाने से मना कर दिया तो फिर आरोपियों ने उसकी पिटाई की। जब राहगीर वहां जुटने लगे तब आरोपी वहां से फरार हो गए।

हालाँकि पुलिस में जो एफआईआर दर्ज कराई गई है उसमे ताज मोहम्मद के बाइक के बजाय साइकिल से लौटने का जिक्र किया गया है। इस बात को ताज मोहम्मद के पिता ने सफाई देते हुए कहा कि गलती से तहरीर में यह लिख दिया गया है, जिसे पुलिस ने गलती से दर्ज कर लिया।

इस मामले के विषय में एसएसपी अनंत देव तिवारी ने बताया कि घटना का कारण धार्मिक नारा लगाना नहीं है यह वाहन ओवरटेक करने के विवाद में हुए मार-पीट का मामला है। एसएसपी ने यह भी कहा कि इसके लिए आरोपियों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जाएगी।