Go to the profile of  Rishabh Verma
Rishabh Verma
1 min read

पाकिस्तान की गरीबी को देखते हुए भारतीय व्यापारी ने पाकिस्तान में लगवाए 62 हैंडपंप

पाकिस्तान की गरीबी को देखते हुए भारतीय व्यापारी ने पाकिस्तान में लगवाए 62 हैंडपंप

जहाँ एक ओर भारत और पाकिस्तान के बीच आपसी रंजिश की ख़बरें आती रहती हैं, तो वहीँ दूसरी ओर ऐसे लोग भी हैं जो इंसानियत की मदद के लिए हमेशा तत्पर रहते हैं। भारत पाकिस्तान के बीच उपजे तनाव की हालातों में भी दुबई में रहने वाले एक भारतीय व्यापारी ने काफी सराहनीय कार्य किया है। उनके पाकिस्तान के दक्षिण-पूर्व सिंध प्रान्त के एक बेहद गरीब ज़िले थारपरकर में 62 हैंडपंप लगवाएं हैं।

खबरों के मुताबिक कारोबारी जोगिंदर सिंह सलारिया को सोशल मीडिया के माध्यम से थारपरकर ज़िले के बुरे हालातों के बारे में खबर मिली थी। इसके बाद उन्होंने स्थानीय सामाजिक कार्यकर्ताओं की मदद से यहाँ 62 हैंडपंप लगवा दिए। लोगों को खाने के लिए इस कारोबारी ने अनाज की बोरियां भी भेजी। सलारिया 1993 से यूएई में ही रह रहे हैं और वे वहां परिवहन के कारोबार से जुड़े हैं।

सलारिया ने 2012 में नई दिल्ली में चैरिटेबल ट्रस्ट शुरू किया था। उन्होंने खलीज टाइम्स को बताया, "जब पुलवामा हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव अपने चरम पर था, उस समय हम इस गरीब ज़िले में हैंड पंप लगा रहे थे "

48 वर्षीय सलारिया ने कहा, "अपने व्यापार में जो भी कमाता हूँ, मैं उसे वापिस समाज को दे देता हूँ" उन्होंने यूट्यूब और फेसबुक के ज़रिये पाकिस्तान के सामाजिक कार्यकर्ताओं के सम्पर्क स्थापित कर इस कार्य को पूरा करने के पैसा उपलब्ध कराया।  

थारपरकर ज़िले में बच्चों और परिवारों के रहने के लिए उचित परिस्थितियां नही हैं। उनके पास पानी, स्वास्थ्य और शिक्षा जैसी बुनियादी सुविधाओं का अभाव है। सलारिया ने कहा कि अभी हमने सिर्फ पानी पर ध्यान दिया है, आगे स्वास्थ्य और शिक्षा जैसे सुविधाओं के बारे में भी योजना बनाई जायेगी।