Go to the profile of  Prabhat Sharma
Prabhat Sharma
1 min read

‘टिकटॉक’ पर लगाम लगाने की कोशिश, कोर्ट के आदेश के बाद Google ने प्ले स्टोर से हटाया

‘टिकटॉक’ पर लगाम लगाने की कोशिश, कोर्ट के आदेश के बाद Google ने प्ले स्टोर से हटाया

भारत में बड़ी ही तेजी से लोकप्रिय हुई ऐप ‘टिकटॉक’ को Google ने अपने प्ले स्टोर से हटा दिया है। Google ने मद्रास हाई कोर्ट के आदेश का पालन करते हुए यह कदम उठाया है। अब कोई यूजर प्ले स्टोर से टिक टॉक को डाउनलोड नही कर पायेगा। हाई कोर्ट ने यह कदम चीनी कंपनी Bytedance Technology के टिक टॉक पर लगे प्रतिबंध को हटाने के अनुरोध को नकारने के बाद उठाया है।

मद्रास हाई कोर्ट ने 3 अप्रैल को सरकार को टिकटॉक पर बैन लगाने के लिए कहा था। कोर्ट ने कहा था कि टिकटॉक अश्लीलता को बढ़ावा देता है तथा बच्चों को सेक्स हिंसक बनाने का कार्य करता है। कोर्ट का यह फैसला एक व्यक्ति के टिकटॉक पर बैन के लिए जनहित याचिका दायर करने के जवाब में आया है। टिकटॉक पर अश्लील सामग्री परोसने का आरोप लगाया गया है।

Google ने अपने एक स्टेटमेंट में कहा है कि वह किसी ऐप पर टिप्पणी नही कर सकता लेकिन स्थानीय कानून का पालन करता है। Google के इस कदम से अभी तक टिकटॉक की तरफ से कोई जवाब या प्रतिक्रिया नही आई है।

‘टिकटॉक’ एक ऐसी मोबाइल एप्लीकेशन है जिसकी मदद से विशेष इफेक्ट्स के साथ छोटे छोटे वीडियो बनाये जा सकते हैं। इस ऐप पर बहुत ही कम समय में एक मनोरंजक वीडियो तैयार हो जाता है। भारत में यूजर इसे काफी पसंद करते हैं और इसलिए भारत में 240 मिलियन (24 करोड़) लोग इस ऐप को इस्तेमाल करते हैं। इस ऐप को भारत के कुछ राजनेताओं ने अनुचित करार दिया है।

टिकटॉक पर लगे बैन पर सुप्रीम कोर्ट ने अभी सुनवाई करने से इंकार कर दिया है। इस बारे में अगली सुनवाई 23 अप्रैल को होना तय है। हाई कोर्ट के इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है जिसमें हाई कोर्ट के आर्डर को रोकने की मांग रखी गई है। हाई कोर्ट की मदुरै बेंच ने सरकार को आदेश दिया था की टिकटॉक की मोबाइल में डाउनलोडिंग पर बैन लगाया जाये। साथ ही बेंच ने मीडिया को इसके प्रसारण से भी मना किया है।

गौरतलब है कि टिकटॉक ऐप चीन की एक कंपनी बाइटडांस के द्वारा बनाई गई है। छोटे वीडियो बनाने के लिए मशहूर यह ऐप एशिया समेत पूरे विश्व में बड़ी तेजी से लोकप्रिय हो गई है। बाइटडांस ने मंगलवार को अपने एक बयान में यह भी कहा था कि उन्हें भारतीय न्याय प्रणाली में पक्का विश्वास है।

Loading...