Go to the profile of  Punctured Satire
Punctured Satire
1 min read

हिन्दुओं के चार धामों में शामिल इस प्रसिद्ध मंदिर में पूरे गांधी परिवार का आना क्यों है प्रतिबंधित?

हिन्दुओं के चार धामों में शामिल इस प्रसिद्ध मंदिर में पूरे गांधी परिवार का आना क्यों है प्रतिबंधित?

भारत में और उसकी सीमा से लगे हुए कई देशों में बहुत से प्राचीन सिद्ध मंदिर है जो खुद में ही एक विशेष मान्यता रखते है। हम अगर बात करे भारत की तो भारत में भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंग विराजित हैं। शिरडी में साई बाबा विराजित है और भी ऐसे कई मंदिर हैं जो स्वयं में एक विशेष मान्यता रखते है। आपको हम बताते है भारत में एक ऐसा मंदिर भी है जहाँ पर पूरे गांधी परिवार का प्रवेश वर्जित है।

भारत के ओडिशा राज्य के पूरी शहर में स्थित जगन्नाथ मंदिर की सुंदरता और वास्तुकला पूरी दुनिया में मशहूर है। समुद्र किनारे बने इस मंदिर में समुद्री लहरों की आवाज़ मंदिर के अंदर आकर शांत हो जाती है। इस मंदिर की एक ख़ास बात और है, इसमें सिर्फ और सिर्फ सनातन हिन्दू ही प्रवेश कर सकते हैं। 1984 में जब इंदिरा गांधी ओडिशा के दौरे पर थीं और दर्शन करने पूरी के जगन्नाथ मंदिर में आयी तो उन्हें इस मंदिर में प्रवेश नहीं करने दिया गया था। पुजारी के अनुसार इस मंदिर में गैर हिन्दुओं का प्रवेश निषेध है।

ज़ी न्यूज़ के अनुसार इतिहासकार पंडित सूर्यनारायण रथशर्मा ने बताया कि जगन्नाथ मंदिर में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को इसलिए दर्शन नहीं करने दिया गया क्योंकि इंदिरा ने फिरोज जहाँगीर से विवाह किया था और फिरोज एक पारसी थे। रथशर्मा जी के अनुसार शादी के बाद लड़की का गोत्र उसके पति के गोत्र में बदल जाता है और पारसी लोगों का कोई गोत्र नहीं होता है इस तरह इंदिरा गांधी हिन्दू नहीं रही थी। उन्होंने यह भी बताया कि कई हजारों वर्ष पूर्व जगन्नाथ मंदिर पर एक धर्म विशेष ने कई आक्रमण करे थे और अपने धर्म को सुरक्षित रखने के लिए गैर हिन्दुओं के प्रवेश पर इस मंदिर में रोक लगाई गई थी।

जगन्नाथ मंदिर में एक वरिष्ठ पुजारी श्री रजत प्रतिहारी जी से जब गांधी परिवार के प्रवेश के बारे में पूछा गया तो उन्होंने पूरे गांधी परिवार के मंदिर में प्रवेश पर कहा कि इन सभी का प्रवेश मंदिर में वर्जित है क्योंकि ये हिन्दू नहीं है। साथ ही प्रियंका गांधी ने भी एक ईसाई से शादी की है जिसके कारण प्रियंका शादी के बाद क्रिश्चन हो गई हैं और मंदिर के नियम के अनुसार किसी भी अन्य धर्म के लोगों का प्रवेश वर्जित है जिसके कारण प्रियंका भी जगन्नाथ मंदिर में प्रवेश नहीं कर सकती है। अब भले ही राहुल गांधी खुद को कौल ब्राह्मण बताएं परन्तु जगन्नाथ चैतन्य संसद तो उनका वंश उनके पिता की तरफ से मानता है और उस हिसाब से राहुल गांधी पारसी हैं । पुजारी के अनुसार गांधी परिवार मंदिर के बाहर निकलने वाली रथ यात्रा में शामिल हो सकते है परन्तु मुख्य मंदिर में प्रवेश नहीं कर सकते हैं।