Go to the profile of  Rishabh Verma
Rishabh Verma
1 min read

कठुआ बलात्कार-हत्या मामले का फैसला 10 जून तक आ सकता है

कठुआ बलात्कार-हत्या मामले का फैसला 10 जून तक आ सकता है

अभियोजन पक्ष ने सोमवार को कहा कि पंजाब के पठानकोट की एक अदालत ने 10 जून को जम्मू-कश्मीर के कठुआ में आठ साल की बच्ची के साथ बलात्कार और उसकी हत्या के मामले में अपना फैसला सुनाएगी।

मामले में दायर चार्जशीट के अनुसार, खानाबदोश समुदाय की आठ वर्षीय मुस्लिम लड़की का एक हफ्ते की कैद के दौरान उसके साथ बलात्कार किया गया। उसे चार दिन तक बेहोश रखा गया और बाद में उसकी हत्या कर दी गयी।जांचकर्ताओं ने कहा कि अपहरण करने का मूल मकसद उस इलाके से समुदाय को दूर भागना था।जिससे यह लड़की बिलॉन्ग करती थी।

जम्मू और कश्मीर पुलिस की अपराध शाखा के मुख्य अभियोजन अधिकारी हरमिंदर सिंह ने कहा, "अदालत ने अपना फैसला सुरक्षित रखा है, जो 10 जून को सुबह 10 बजे सुनाया जाएगा।"लड़की के परिवार और वकील ने कहा कि उन्हें मौत की धमकियों का सामना करने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने मई 2018 में मामले को पंजाब स्थानांतरित कर दिया। इससे पहले, वकीलों के एक समूह ने 9 अप्रैल, 2018 को अपराध शाखा के अधिकारियों को कठुआ की एक अदालत में मामले में चार्जशीट पेश करने से रोक दिया था।

3 मार्च, 2018 को कठुआ में शटडाउन देखे जाने के दो महीने बाद मामले को पंजाब स्थानांतरित कर दिया गया था, और मामले के आठ आरोपियों की गिरफ्तारी के खिलाफ लोग सड़कों पर उतर आए। जम्मू-कश्मीर में तत्कालीन पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी-भाजपा गठबंधन सरकार में भारतीय जनता पार्टी के दो मंत्री चौधरी लाल सिंह और चंदर प्रकाश गंगा भी हिंदू एकता मंच के बैनर तले विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए |

जम्मू और कश्मीर उच्च न्यायालय और उच्चतम न्यायालय आरोपियों, सांजी राम, दीपक खजुरिया, तिलक राज, आनंद दत्ता, परवेश कुमार और विशाल के मुकदमे की निगरानी कर रहे हैं। आरोपियों में एक सेवानिवृत्त स्थानीय सरकारी कर्मचारी और दो पुलिस अधिकारी शामिल हैं। सरकार ने 17 जनवरी, 2018 को लड़की को मृत पाए जाने के दो दिन बाद मामले में मजिस्ट्रियल जांच का आदेश दिया था।