Go to the profile of  Nikhil Talwaniya
Nikhil Talwaniya
1 min read

श्रीलंका का मानना है कि रावण दुनिया के पहले पायलट थे, 5000 साल पहले भरी थी उड़ान

श्रीलंका का मानना है कि रावण दुनिया के पहले पायलट थे, 5000 साल पहले भरी थी उड़ान

रावण के चरित्र का वर्णन भारतीय पौराणिक कथाओं में मिलता है। रावण की लंका जो की वर्तमान में श्रीलंका है वहां की सरकार का यह मानना ​​है कि दुनिया के पहले विमान चालक राजा रावण थे। 5,000 साल पहले उन्होंने उड़ान भरी थी। अब श्रीलंका के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण ने प्राचीन काल में उड़ान भरने हेतू रावण द्वारा उपयोग किए जाने वाले तरीकों को समझने के लिए पहल की शुरुआत की है।

नागरिक उड्डयन प्राधिकरण के उपाध्यक्ष शशि दानतुनगे ने बताया कि 'उनके पास यह साबित करने के लिए फैक्ट हैं कि रावण विमान का उपयोग करने वाला और उड़ान भरने वाला पहला व्यक्ति था. '

दानतुनगे ने यह भी कहा कि 'राजा रावण एक प्रतिभाशाली व्यक्ति थे। वह उड़ान भरने वाले पहले व्यक्ति थे। वह एक विमान-चालक थे। यह पौराणिक कथा नहीं है, बल्कि यह एक तथ्य है। इस पर एक विस्तृत शोध किए जाने की आवश्यकता है। अगले पांच वर्षों में हम यह साबित करेंगे।'

बता दें कि काटुनायके में एक सम्मेलन आयोजित किया गया था जिसमे नागरिक उड्डयन विशेषज्ञों, पुरातत्वविदों, इतिहासकारों, वैज्ञानिकों, भूवैज्ञानिकों ने उपस्थिति दर्ज करवाई थी। यहाँ श्रीलंका का सबसे बड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा बंदरानाइक स्थित है। इस सम्मेलन में यह निष्कर्ष निकाला गया कि 5,000 साल पहले रावण ने श्रीलंका से भारत के लिए उड़ान भरी और वापस आ गया था।

श्रीलंका में कई लोगों का मानना है कि रावण एक महान राजा था और वह बहुत परोपकारी भी था। इन दिनों श्रीलंका में प्राचीन लंका के राजा के बारे में रुचि है। हाल ही में श्रीलंका ने 'रावण' नाम के उपग्रह को पहले अंतरिक्ष मिशन पर भेजा है।

Loading...