Go to the profile of  Punctured Satire
Punctured Satire
1 min read

पोलिश लड़की ने भारत वापसी के लिए पीएम मोदी से मदद मांगी

पोलिश लड़की ने भारत वापसी के लिए पीएम मोदी से मदद मांगी

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का ध्यान आकर्षित करने में विफल रहने के बाद, 11 वर्षीय पोलिश लड़की ने अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर भारत लौटने की मांग की है।

एलिजा वनात्को ने मोदी और नव नियुक्त विदेश मंत्री एस जयशंकर को खुद की राइटिंग में पत्र लिखा। पत्र में भगवान शिव, नंदा देवी पर्वत के प्रति अपने प्रेम और गोवा में प्रवास के दौरान गायों की देखभाल करने की उनकी पसंदीदा यादों को भी शामिल किया है।

उसने लिखा कि “मैं गोवा में अपने स्कूल से बहुत प्यार करती हूँ, सुंदर प्रकृति और मुझे वहाँ के पशु बचाव केंद्र में अपनी स्वयंसेवा की याद आ रही है। वहां मैं गायों की देखभाल करने में मदद करती थी। मेरी मां 24 मार्च, 2019 को यात्रा के बाद भारत में फिर से प्रवेश नहीं कर सकीं और हमें बताया गया कि हमारे ओवरस्टे के कारण हमें ब्लैक लिस्टेड कर दिया गया था, ” उनकी मां मार्ता कोटलार्स्का ने मोदी और जयशंकर को ट्वीट किया और अपनी बेटी के पत्र को भी ट्विटर के जरिये दिखाया।

बता दे कि उनकी मां, मार्टा, एक कलाकार और फोटोग्राफर है ,वह भारत में कई प्रविष्टि बी -2 व्यापार वीजा पर थीं, वह 24 मार्च को श्रीलंका से केम्पेगौड़ा अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे, बेंगलुरु से वापस लौट रही थी तब उन्हें प्रवेश करने की अनुमति नहीं मिली। गोवा में पढ़ रही अपनी बेटी के साथ, मार्था को भारत लौटने, अपनी बेटी को लेने और कुछ दिनों के भीतर देश छोड़ने से पहले थाईलैंड में रुकना पड़ा।

अभी मां और बेटी कंबोडिया में हैं वह भारत में संभावित वापसी का इंतजार कर रही हैं, जहां एलिकजा का दावा है, वह अब हिंदू धर्म और आध्यात्मिकता में निहित है, और अपने पत्र में कहती है, "भारतीय नागरिक नहीं होने के बावजूद, हम इसे घर कहते हैं"।

उसकी मां ने अप्रैल में सुषमा स्वराज से गुहार लगाई थी, जहां उसने दावा किया था कि उत्तराखंड के चमोली में विदेशी क्षेत्रीय पंजीकरण कार्यालय द्वारा उसे "गलतफहमी के कारण" ओवर स्टेयिंग करने के लिए ब्लैकलिस्ट किया गया था।