Go to the profile of  Prabhat Sharma
Prabhat Sharma
1 min read

मोदी सरकार की बड़ी जीत, आतंकी मसूद अज़हर को अंतराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित किया गया

मोदी सरकार की बड़ी जीत, आतंकी मसूद अज़हर को अंतराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित किया गया

लम्बे समय से भारत द्वारा पाकिस्तानी आतंकवादी मसूद अजहर को अंतराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करने के लिए प्रयास किए जा रहे थे परन्तु चीन हमेशा भारत के इरादों पर पानी फेर देता था और मसूद अजहर को बचा लेता था। परन्तु इस बार यूनाइटेड नेशन सिक्योरिटी कौंसिल की बैठक में जैश-ए-मोहम्मद के इस मुख्य सरगना मसूद अजहर को अंतराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित कर ही दिया गया ।

14 फरवरी को हुए पुलवामा हमले में 40 जवानों की शहादत हुई थी। इसके पीछे आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अज़हर का हाँथ था। तभी से भारत सहित कई अन्य देश मसूद अज़हर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने की कोशिश में थे। लेकिन चीन बाकी सभी देशों की इस कोशिश में हमेशा अड़ंगा लगा रहा था।

बता दें की अब आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अज़हर को 1 मई को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित किया जा सकता है। इसके लिए दुनिया भर के कई देशों ने अपना समर्थन दिया है। जो की भारत के लिए ख़ुशी की बात है।

ऐसी खबरे भी आ रही है कि चीन एक मई को संयुक्त राष्ट्र में मसूद अज़हर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने के अपने विचार में परिवर्तन ला सकता है। यदि अज़हर मसूद को ग्लोबल टेररिस्ट करार दिया जाता है तो इससे पीएम मोदी सरकार की एक बड़ी जीत होगी।

इस मामले में एक वरिष्ठ अधिकारी ने एक अख़बार को बताया की यदि मसूद अज़हर ग्लोबल टेररिस्ट घोषित हो जाता है तो यह उसकी मृत्यु का संकेत होगा। पुलवामा में हुए हमले के बाद से ही यूएन में फ्रांस, अमेरिका, यूके आदि देश मसूद को ग्लोबल टेररिस्ट करार देने की मांग कर रहे थे परंतु चीन ने उसका बचाव कर दिया। उन्होंने यह ही बताया कि अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस ने 13 मार्च को इस पर फिर से प्रस्ताव रखा था। जिस पर अन्य सभी सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने मंजूरी दे दी।

इस विषय पर 17 अप्रैल को चीन ने यह कहते हुए इसे नकार दिया की पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्म्द के सरगना मसूद अज़हर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने के लिए अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस ने संयुक्त राष्ट्र में लगाई गई तकनीकी रोक को हटाने हेतु 23 अप्रैल तक की अवधि दी है। इसके लिए चीन ने यह दावा किया कि यह एक बहुत ही पेचिदा मामला है जो की हल होने की दिशा में गतिशील है। अब यदि  मसूद अज़हर ग्लोबल टेररिस्ट घोषित जाता है तो यह भारत के लिए सबसे बड़ी कामयाबी होगी।

Loading...