Go to the profile of  Nikhil Talwaniya
Nikhil Talwaniya
1 min read

पाकिस्तान में ईश निंदा के आरोप में एक हिन्दू को किया गया गिरफ्तार, दूकान में लगा दी गई आग

पाकिस्तान में ईश निंदा के आरोप में एक हिन्दू को किया गया गिरफ्तार, दूकान में लगा दी गई आग

पाकिस्तान के सिंध प्रांत में एक हिन्दू डॉक्टर को गिरफ्तार करने की घटना सामने आई है। इस डॉक्टर पर ईशनिंदा का आरोप लगाया गया है। इस डॉक्टर पर स्थानीय मस्जिद के मौलवी ने आरोप लगाया था कि उसने एक पवित्र पुस्तक के पन्नों को फाड़कर उनमें दवाईयां लपेट दी थी।

रिपोर्ट के अनुसार मौलवी के द्वारा शिकायत मिलने पर स्थानीय पुलिस ने डॉक्टर के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। स्थानीय पुलिस अधिकारी जाहिद हुसैन लेघरी के अनुसार डॉक्टर का नाम रमेश कुमार है। रमेश कुमार के खिलाफ लोगों में काफी आक्रोश था। लोगों ने उनकी दुकान में आग लगा दी और मीरपुरखास जिले के फूलदोन कस्बे में सड़क पर टायर जलाकर भी विरोध प्रदर्शन किया। पुलिस अधिकारी लेघरी के अनुसार मामले की जांच की जा रही है और इलाके में शांति कायम करने के लिए डॉ रमेश को किसी अज्ञात स्थान पर रखा गया है।

ग़ौरतलब है कि पाकिस्तान के सिंध और कराची प्रांत में हिंदुओं की संख्या काफी अधिक है। पाकिस्तान हिन्दू परिषद ने आरोप लगाया है कि डॉक्टर रमेश को व्यक्तिगत दुश्मनी के चलते ईशनिंदा कानून का सहारा लेकर निशाने पर लिया गया है।

पाकिस्तान में अल्पसंख्यक होने के बावजूद बड़ी संख्या में हिन्दू रहते हैं। सेंटर फॉर सोशल जस्टिस के आंकड़ों के अनुसार 1987 से 2016 तक ईश निंदा के कानून के अंतर्गत 1472 लोगों पर आरोप लगाया गया। एक अनुमान के आधार पर पाकिस्तान में हिन्दू आबादी 90 लाख के करीब है। पाकिस्तान के सिंध प्रांत में सबसे ज्यादा हिन्दू रहते हैं और वे मुस्लिमों के साथ संस्कृति साझा करते हैं।

ईशनिंदा के कानून को जनरल जिया उल हक़ के शासन के दौरान लाया गया था। इस कानून में धार्मिक सभा में बाधा खड़ी करना, धार्मिक आस्थाओं का अपमान, आदि को गैर क़ानूनी माना जाता है। पाकिस्तान में 1982 के बाद इस कानून को बहुत सख्त बना दिया गया है। इस कानून में 1986 में एक धारा 295 सी को जोड़ा गया था। इस धारा के अंतर्गत पैगम्बर मोहम्मद के अपमान करने वालों को आजीवन कारावास या सजा-ए-मौत भी दी जा सकती है। पाकिस्तान में अब तक के ज्यादातर मामलों में ईशनिंदा के मामले अल्पसंख्यकों पर ही दर्ज किये गए हैं।