Go to the profile of  Prabhat Sharma
Prabhat Sharma
1 min read

पाक में हिन्दू नाबालिक लड़कियों के धर्मान्तरण मुद्दे को सुषमा स्वराज द्वारा उठाने पर हुई कार्यवाही

पाक में हिन्दू नाबालिक लड़कियों के धर्मान्तरण मुद्दे को सुषमा स्वराज द्वारा उठाने पर हुई कार्यवाही

पाकिस्तान में लोगो को जबरन धर्मान्तरण करवाया जा रहा है जिसमे नाबालिग हिन्दू लड़कियों के धर्मान्तरण का मामला सामने आया है। पाकिस्तान के घोटकी में दो नाबालिग हिन्दू लड़कियों को ज़बरदस्ती धर्मान्तरण करने पर 7 लोगों को गिरफ्त में लिया गया है। इन सात लोगो में निक़ाह कराने वाला अधिकारी भी शामिल है। बता दे की इस घटना का वीडियो शनिवार के दिन वायरल हुआ जिसके बाद पाकिस्तान सरकार हरकत में आई और अपराधियों को गिरफ्तार किया। इतना ही नहीं भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की सक्रियता के कारण भी पाकिस्तान सरकार पर दबाव बना हुआ था।

जानकारी दे दें की भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज खुद ही इस विषय में संज्ञान ले रही थी और उन्होंने भारतीय उच्चायोग को इस विषय में रिपोर्ट देने के लिए भी कहा था जिसके कारण पाकिस्तानी मंत्री फवाद चौधरी ने उन पर आपत्ति भी दिखाई थी।  इस पर पाकिस्तानी मंत्री पर कड़ी प्रतिक्रिया दिखाते हुए सुषमा स्वराज ने बता दिया की भारत हिंदुओं की सुरक्षा हेतु प्रतिबद्ध है।

बता दे की वायरल वीडियो में लड़कियों के भाई और पिता नाबालिग लड़कियों की ज़बरदस्ती इस्लामिक धर्मान्तरण की बाते कर रहे है। इस वीडियो में मौलवी बता रहे है की लड़कियों में खुद की मर्जी से इस्लाम को अपनाया है।

जानकारी दे दें की 20 मार्च को ये लड़कियाँ ग़ायब हो गयी थी और इसकी एफआईआर परिवार वालो में दर्ज कराई गई थी। दोनों ही लड़कियों की उम्र 18 वर्ष से कम है। जिसमे एक13 वर्षीय रवीना और 15 वर्षीय रीना है। जिनका अपहरण किया गया और उन्हें सिंध प्रांत में अपने से बड़े उम्र के मुस्लिम पुरुषों के साथ जबरन शादी के लिए मजबूर किया जा रहा था। इन लड़कियों के पिता का दिल दहलाने वाला वीडियो भी सामने आया है जिसमे मजबूर पिता ने अपने शरीर को जलाने की कोशिश की लेकिन उसे स्थानीय लोगो द्वारा बचा लिया गया।

इस मामले पर पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के हिन्दू सांसद रमेश कुमार वंकवानी ने बोला कि प्राथमिकता के आधार पर ज़बरदस्ती धर्मांतरण के विरुद्ध बनाये गए विधेयक को असेंबली में दाखिल एवं पारित कराया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, “धर्म के नाम पर नफरत की शिक्षा देने वाले सभी लोगों से प्रतिबंधित धार्मिक संगठनों की तरह निपटा जाना चाहिए।”

इस मामले पर पाकिस्तान के मंत्री फवाद चौधरी ने सुषमा स्वराज के ट्वीट को ट्रोल करने की भी कोशिश की लेकिन इससे उनकी ही बेइज्जती  हो गयी। इस घटना ने पूरे विश्व को पाकिस्तान में रह रहे हिंदुओं पर हो रहे अत्याचार पर सोचने पर मजबूर कर दिया है।

Loading...