Go to the profile of  Punctured Satire
Punctured Satire
1 min read

पाकिस्तान में गूंजे हर हर महादेव के नारे, 72 साल बाद खुला एक प्राचीन मंदिर

पाकिस्तान में गूंजे हर हर महादेव के नारे, 72 साल बाद खुला एक प्राचीन मंदिर

72 वर्ष पुराने मंदिर को पाकिस्तान में फिर से खोल दिया गया है। बता दें कि यह मंदिर पंजाब प्रांत के सियालकोट में अवस्थित है। इस मंदिर को शावाला तेजा सिंह टेंपल के नाम से जानते है। पाकिस्तान की आज़ादी के बाद से बंद इस मंदिर को दोबारा खोला गया है। इस मंदिर में कई देवी देवताओं की मूर्तियों को लगाया जाने वाला है। इसमे आश्चर्य की बात यह है कि देवी देवताओं की मूर्तियों को भारत से लेकर यहाँ लगाया जाना है।  

72 वर्ष के बाद श्रद्धालुओं ने हिन्दू रीति-रिवाज के साथ इस मंदिर को खोला है। इस अवसर पर भव्य कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया है। साथ ही पूजा पाठ भी किया गया और सभी लोगो ने साथ मिलकर हर-हर महादेव का जयकारा भी लगाया। इस अवसर पर क्टर मुनावर चंद, हिंदू सुधार सभा के अध्यक्ष अमरनाथ रंधावा, पंडित काशी भी उपस्थित थे। साथ ही वहां पर पाकिस्तान के कई हिन्दू नेता भी मौजूद थे। पाकिस्तान इवैक्यूई ट्रस्ट प्रॉपर्टी ने इस मंदिर को खोलने की पहल की थी।

रंधावा ने कहा कि मंदिर में लोगों को पूजा अर्चना करने की अनुमति होनी चाहिए। खबरों के अनुसार इस मंदिर में स्थापित करने के लिए मूर्तियों को भारत से लाया जाएगा। इसके अलावा पाकिस्तान करतारपुर कॉरिडोर भी निर्मित कर रहा है। जहां से लोग सिख धर्म के संस्थापक गुरुनानक देव के 550वें प्रकाश पर्व पर दर्शन के लिए भी आ सकेंगे। इस दर्शन के लिए सिख श्रद्धालुओं को मुफ्त में वीजा फ्री प्रवेश भी दिया जाएगा।

बहरहाल मंदिर के विषय में श्राइन सचिव सैयद फराज अब्बास ने कहा कि हिंदू समुदाय के लोग कई वर्षों से इस मंदिर को खोलने की मांग कर रहे थे। इस मंदिर को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और इवैक्यूई ट्रस्ट प्रॉपर्टी बोर्ड के निर्देश पर दोबारा खोला गया है।

मंदिर की मरम्मत का काम जल्दी शुरू किया जाएगा। मंदिर को दोबारा खोले जाने पर अमरनाथ रंधावा ने पाकिस्तान सरकार की तारीफ की है।